हनुमानजी के मंत्र (Lord Hanuman Mantra in Hindi)

अच्छी सेहत के लिए हनुमान मंत्र (Hanuman Mantra for Good Health in Hindi)
सभी प्रकार के रोग और पीड़ा से मुक्ति पाने हेतु इस मंत्र का जाप करना चाहिए:

हनुमान अंगद रन गाजे।
हांके सुनकृत रजनीचर भाजे।।

नासे रोग हरैं सब पीरा।
जो सुमिरै हनुमत बल बीरा।।

Hanumana angada rana gaje.
Hanke sunakrta rajanicara bhaje.

Nase roga hare sab pira.
Jo sumirai hanumata bal bira.

************************************************************

डर या भूत आदि की समस्या दूर करने वाले मंत्र (Hanuman Mantra to Overcome Fear)

प्रेत आदि की बाधा निवृति हेतु हनुमान जी के इस मंत्र का जाप करना चाहिए:

ॐ दक्षिणमुखाय पच्चमुख हनुमते करालबदनाय
नारसिंहाय ॐ हां हीं हूं हौं हः सकलभीतप्रेतदमनाय स्वाहाः।

प्रनवउं पवनकुमार खल बन पावक ग्यानधन।
जासु हृदय आगार बसिंह राम सर चाप घर।।

Om Dakshinamukhaya paccamukha hanumate karalabadanaya
narasinhaya ham him hom haum hah sakalabhitapretadamanaya svahah

Pranavaum pavanakumara khala bana pavaka gyanadhana.
Jasu hirdaya agara basinha rama sara capa ghara

***************************************************************************
शत्रुओं से मुक्ति पाने के लिए हनुमान जी के इस मंत्र का जाप करना चाहिए:

ॐ पूर्वकपिमुखाय पच्चमुख हनुमते टं टं टं टं टं सकल शत्रु सहंरणाय स्वाहा।

Purvakapimukhaya paccamukha hanumate tam tam tam tam tam sakala satru sahanranaya svaha.

******************************************************************************
अपनी रक्षा और यथेष्ट लाभ हेतु इस मंत्र का जाप करना चाहिए

अज्जनागर्भ सम्भूत कपीन्द्र सचिवोत्तम।
रामप्रिय नमस्तुभ्यं हनुमन् रक्ष सर्वदा।।

ajjanagarbha sambhuta kapindra sacivottama.
Ramapriya namastubhyam hanuman raksa sarvada.

********************************************************************

मुकदमे में विजय प्राप्ती के लिए इस मंत्र का जाप करना चाहिए

पवन तनय बल पवन समाना।
बुधि बिबेक बिग्यान निधाना।।

Pavana tanaya bala pavana samana
Budhi bibeka bigyana nidhana

*******************************************************

धन- सम्पत्ति प्राप्ति हेतु इस मंत्र का जाप करना चाहिए:

मर्कटेश महोत्साह सर्वशोक विनाशन ।
शत्रून संहर मां रक्षा श्रियं दापय मे प्रभो।।

Markatesa mahotsaha sarvasoka vinasana.
Satruna sanhara mam raksha Sriyam dapaya me prabhu.

*************************************************************

किसी भी कार्य की सिद्धि के लिए इस मंत्र का जाप करना चाहिए:

ॐ हनुमते नमः

Om Hanumate namah.

***********************************************************

हनुमान जी को प्रसन्न करने हेतु इस मंत्र का जाप करना चाहिए

सुमिरि पवन सुत पावन नामू।
अपने बस करि राखे रामू।।

Sumiri pavana suta pavana namu.
Apane basa kari rakhe ramu.

*****************************************************************

हनुमानजी की पूजा के दौरान इस मंत्र को पढ़ते हुए उनसे क्षमा-प्रार्थना करना चाहिए-

मन्त्रहीनं क्रियाहीनं भक्तिहीनं कपीश्वर |
यत्पूजितं मया देव! परिपूर्ण तदस्तु मे ||

Mantraheenam Kriyaheenam Bhaktiheenam Kapishwar |
Yatpoojitam Maya Dev! Paripoorn Tadastu Me ||

************************************************************************

हनुमानजी की पूजा में इस मंत्र को पढ़ते हुए सुवर्णपुष्प समर्पण करना चाहिए-

वायुपुत्र ! नमस्तुभ्यं पुष्पं सौवर्णकं प्रियम् |
पूजयिष्यामि ते मूर्ध्नि नवरत्न – समुज्जलम् ||

Vaayuputra ! Namastubhyam Pushpam Sauvarnakam Priyam |
Poojayishyaami Te Moordhni Navratn – Samujjalam ||

****************************************************************

हनुमानजी की पूजा में इस मंत्र को पढ़ते हुए उन्हें ऋतुफल समर्पण करना चाहिए-

फ़लं नानाविधं स्वादु पक्वं शुद्धं सुशोभितम् |
समर्पितं मया देव गृह्यतां कपिनायक ||

Falam Naanaavidham Swaadu Pakvam Shuddham Sushobhitam |
Samarpitam Mayaa Dev Grihyataam Kapinaayak ||

*****************************************************************

इस मंत्र को पढ़ते हुए पवनपुत्र हनुमानजी को सिन्दूर समर्पण करना चाहिए-

दिव्यनागसमुद्भुतं सर्वमंगलारकम् |
तैलाभ्यंगयिष्यामि सिन्दूरं गृह्यतां प्रभो ||

Divyanaagasamudbhutam Sarvmangalaarkam |
Tailaabhyamgayishyaami Sindooram Grihyataam Prabho ||

**************************************************************

अंजनीपुत्र हनुमान की पूजा करते समय इस मंत्र के द्वारा उन्हें पुष्पमाला समर्पण करना चाहिए-

नीलोत्पलैः कोकनदैः कह्लारैः कमलैरपि |
कुमुदैः पुण्डरीकैस्त्वां पूजयामि कपीश्वर ||

Neelotpalaih Kokanadaih Kahlaaraih Kamalairapi |
Kumudaih Pundareekaistvaam Poojayaami Kapeeshwar ||

*******************************************************

हनुमानजी की पूजा करते समय इस मंत्र के द्वारा उन्हें पंचामृत समर्पण करना चाहिए-

मध्वाज्य – क्षीर – दधिभिः सगुडैर्मन्त्रसन्युतैः |
पन्चामृतैः पृथक् स्नानैः सिन्चामि त्वां कपीश्वर ||

Madhvaajya – Ksheer – Dadhibhih Sagudairmantrasanyutaih |
Panchamritaih Prithak Snaanaih Sinchaami Tvaam Kapeeshwar ||

**********************************************************

मारुतिनंदन की पूजा में इस मंत्र के द्वारा उन्हें अर्घ्य समर्पण करना चाहिए-

कुसुमा-क्षत-सम्मिश्रं गृह्यतां कपिपुन्गव |
दास्यामि ते अन्जनीपुत्र | स्वमर्घ्यं रत्नसंयुतम् ||

Kusuma-Kshta-Sammishram Grihyataam Kapipungav |
Daasyaami Te Anjaneeputra | Svamarghyam Ratnasanyutam ||

******************************************************

इस मंत्र को पढ़ते हुए अंजनीपुत्र हनुमानजी को पाद्य समर्पण करना चाहिए-

सुवर्णकलशानीतं सुष्ठु वासितमादरात् |
पाद्योः पाद्यमनघं प्रतिफ़गृह्ण प्रसीद मे ||

Suvarnkalashaaneetam Sushthu Vaasitamaadaraat |
Padyoh Padyamanagham Pratifagrihna Praseed Me ||

*****************************************************

हनुमानजी की पूजा के दौरान इस मंत्र को पढ़ते हुए उन्हें आसन समर्पण करना चाहिए-

नवरत्नमयं दिव्यं चतुरस्त्रमनुत्तमम् |
सौवर्णमासनं तुभ्यं कल्पये कपिनायक ||

Navratnmayam Divyam Chaturstramanuttamam |
Sauvarnamaasanam Tubhyam Kalpaye Kapinaayak ||

**************************************************

इस मंत्र को पढ़ते हुए पवनपुत्र हनुमानजी का आवाहन करना चाहिए-

श्रीरामचरणाम्भोज-युगल-स्थिरमानसम् |
आवाहयामि वरदं हनुमन्तमभीष्टदम् ||

Shriramcharanaambhoj-Yugal-Sthiramaanasam |
Aavaahayaami Vardam Hanumantambheeshtadam ||